Kalesh Ki Jad (Hard Copy)

M.R.P. :- ₹220

Price :- ₹200
You Save : ₹20 ( 9%)

अंधविश्वास और रूढीवादियों की धारणा है कि बालक तो भगवान दे सै, निरभाग के तो लापा (मुखाग्नि) लगाणिया भी ना होता। छोटी उमर में बालकां के हाथ पीले करके मां बाप अनणा फर्ज से उरिण हो सके सैं। कोई करमहीण ही हो तो भगवान जाणै।


Similar Books